सोशल मीडिया साइट्स और उनका समाज पर पॉजिटिव प्रभाव

सोशल मीडिया सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए एक प्रवेश द्वार के रूप में कार्य कर रहा है. जहां लोग अपने लेखों, आडियो या वीडियो के माध्यम से कंटेंट पोस्ट कर रहे और दूसरे लोग सीख रहे हैं. इसका सबसे बड़ा उदाहरण खान अकादमी है जिसके हजारों वीडियो यूट्यूब पर हैं और उन्हें दुनियाभर के स्टूडेंट्स देख कर सीख रहे हैं.

social media positive impact

आज के समय में सोशल मीडिया और सोशल नेटवर्किग जीवन का हिस्सा बन चुका है. इसको इग्नोर नहीं किया जा सकता. महत्वपूर्ण तथ्य ये है कि समाज के अधिकतर लोग सोशल मीडिया कम्युनिकेशन में बिजी हैं या उपयोग कर रहे हैं. Hootsuite वेबसाइट की स्टडी के मुताबिक अमेरिका के 69% वयस्क कम से कम एक सोशल नेटवर्किग साइट को इस्तेमाल करते हैं.

  1. सोशल मीडिया के माध्यम से आसानी से दोस्त बना सकते
    सोशल मीडिया साइट्स लोगों को बड़ी आसानी से किसी भी फील्ड या प्रोफेशन के लोगों से कनेक्ट कर देती हैं और लोग उन्हें अपना फ्रेंड्स बना सकते हैं. जबकि दो दशक पहले किसी व्यक्ति से सीधे संपर्क में आये बिना किसी को दोस्त बनाना संभव नहीं था. सस्ते इंटरनेट डाटा प्लान और स्मार्टफोन ने सोशल मीडिया के इस्तेमाल में बड़ी मदद की. जिससे संभव है कि आप कुछ ही सप्ताह या महीने में हजारों वर्चुअल दोस्त बना लें.
  2. सोशल मीडिया सहानुभूति को बढ़ावा देने में मदद करता
    आपने देखा होगा कि कोई व्यकित जब अपना कोई अच्छा या बुरा अनुभव शेयर करता तो लोगों का इंगेजमेंट लाइक, कमेंट्स और आपके पोस्ट को शेयर करने से बढ़ जाता है. आपको याद होगा कि इसी साल मई में अमेरिका में 46 वर्षीय अश्वैत नागिरक जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत के बाद अमेरिका सहित दुनियाभर में प्रदर्शन हुए और अभी भी जारी हैं. बालीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड के बाद सोशल मीडिया पर जैसी सहानुभूति मिली वैसी पहली कभी नहीं देखी गई. इसके अलावा अमेरिकी सिविल राइट्स एक्टिविस्ट तराना बर्क द्वारा शुरु किया गया Me Too अभियान सोशल मीडिया के माध्यम से 85 देशों में पहुंच गया और भारत सरकार में एक केंद्रीय मंत्री को इस्तीफा भी देना पड़ा था.
  3. सोशल मीडिया से संचार बहुत तीव्र होता
    एक ट्वीट करने में सिर्फ 20 सेकंड लगते हैं और इसके बाद सेकंडों में वो ट्वीट हजारों-लाखों लोगों तक पहुंच जाता है. यदि आपका एकाउंट कई सोशल मीडिया प्लेट फार्म पर है जैसे ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन, क्वारा आदि, तो और ज्यादा तीव्र गति से मेसेज लोगों तक पहुंच जाएगा.
  4. सोशल मीडिया दुनिया को स्मार्टफोन में समेट देता
    सोशल नेटवर्किग साइट के माध्यम में आपका कोई फ्रेंड या रिश्तेदार 5000 किमी दूर भी रियल टाइम के मं कनेक्ट हो सकता और आप वैसे ही बात कर सकते जैसे आप घर के किसी सदस्य से अपने घर में बात कर रहे हों. आपके पास पूरी फ्रीडम और च्वाइस होती है कि आप टेक्स्ट, आडियो या वीडियो में से क्या चुनते हैं.
  5. सोशल मीडिया रिश्तों को जोड़ने में मदद करता
    सोशल नेटवर्किग साइट के माध्यम से आपके पुराने मित्र, टीचर, प्रोफसर कनेक्ट हो जाते हैं. जिनसे आप वर्षों पहले मिले थे. ऐसे भी कई उदाहरण देखने को मिले हैं कि वर्षों पहले विछड़ चुके अपने प्रियजन या परिवार के सदस्य का फेसबुक या इंस्टाग्राम के माध्यम से मिलना संभव हुआ.

  1. सोशल मीडिया कॉमन ग्राउंड या कॉमन इंटरेस्ट खोजने में मदद करता
    इसके अलावा सोशल मीडिया साइट्स पर आप अपने कामन इंटरेस्ट के लोगों से न केवल कनेक्ट हो सकते, बल्कि उनके साथ संवाद भी कर सकते. अपने कॉमन विषय पर बात कर सकते. सोशल मीडिया पर कई प्रोफेशन या हावी से जुड़े ग्रुप तथा पेज होते हैं, जिनसे जुड़कर आप अपने काम की चीजें जान सकते.
  2. सामाजिक जागरूकता विकसित करने में योगदान
    सोशल मीडिया उन संवेदनशील मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाता है जिनकी समाज में चर्चा नहीं होती. साथ ही राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिक, जागरूकता पैदा करता है और उन मुद्दों पर बहस को भी आमंत्रण देता है. जहां अक्सर लोग अपनी प्रतिक्रिया कमेंट्स के रूप में देते हैं.
  3. सीखने और सिखाने का स्रोत
    सोशल मीडिया सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए एक प्रवेश द्वार के रूप में कार्य कर रहा है. जहां लोग अपने लेखों, आडियो या वीडियो के माध्यम से कंटेंट पोस्ट कर रहे और दूसरे लोग सीख रहे हैं. इसका सबसे बड़ा उदाहरण खान अकादमी है जिसके हजारों वीडियो यूट्यूब पर हैं और उन्हें दुनियाभर के स्टूडेंट्स देख कर सीख रहे हैं.
  4. आत्म-विश्वास में सुधार
    युवाओं में आत्मविश्वास बढ़ाने या निर्माण करने के लिए सोशल मीडिया एक स्रोत के रूप में काम कर रहा है. मान लीजिए आपने अपना लिखा एक लेख पोस्ट किया. अगर लोगों को अच्छा लगता है तो कमेंट्स, लाइक, शेयर करते. जिससे न केवल आपका प्रोत्साहन बढ़ता, बल्कि आपमें ज्यादा आत्मविश्वास भी बढ़ता है. इससे आपका नेटवर्क बढ़ने लगता. पेज पर फोलोअर्स की संख्या बढ़ जाती है.
  5. टेलेंट्स शोकेस करने के लिए अद्भुत मंच
    सोशल मीडिया एक अद्भुत मंच है जो इक्सीवी सदी में प्रतिभावान व्यक्तियों के लिए वरदान सावित हो रहा है. यूट्यूब, टिकटॉक, जैसे प्लेटफार्म के माध्यम से दुनियाभर में प्रतिभाशाली लोगों, खासकर नवयुवक/नवयवतियों ने न केवल अपने टेलेंट का लोहा मनवाया, बल्कि लाखों रुपये की कमाई का अवसर भी प्रदान हुआ. जिससे उनका नया कैरियर ही बन गया.
  6. समय की बचत
    सोशल मीडिया ने हमें अपने समय के अधिकांश हिस्से को बचाने और कहीं न कहीं उत्पादक उपयोग करने की अनुमति दी है. यह हमें प्रभावी तरीके से संवाद करने में सक्षम बनाता है. कोविड-19 के समय में दुनियाभर में लॉकडाउन की स्थिति बन गई. सभी शिक्षण संस्थान बंद हो गए, लाइव कांसर्ट और सेमिनार पर अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिए गए. ऐसे में प्रोफेशनल, शैक्षिक संस्थान, लाइफकोच, ट्रेनर सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से ही छात्रों और लोगों को शिक्षित कर रहे थे. लाइव सेमिनार की जैसे बाढ़ सी आ गई. इससे समय की बचत हुई, क्योकि आपके आने-जाने का समय बच गया.
  1. नये रोजगार का सृजन
    सोशल नेटवर्किग साइट्स के प्रभाव से अलग-अलग प्लेटफार्म के एक्सपर्ट आ गए. जो आपके बिजनेस को प्रमोट करने, सेल्स बढ़ाने, लीड जनरेट करने में मदद करते हैं. जो अपने आपमें नया प्रोफेशन बन गया और हजारों लोगों तथा कंपनियों को आगे बढ़ने का अवसर मिल रहा है. जैसे कोई फेसबुक एड एक्पर्ट, लिंक्डइन एक्सपर्ट, इंसटाग्राम डिजिटल मार्केटिग गुरु, व्हाट्सएप मार्केटिग. इससे न केवल बिजनेस को बड़ा करने में मदद मिल रही, बल्कि लोगों को रोजगार भी मिल रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: